कोरोनावायरस: क्या है, कैसे शुरू हुआ और इसका प्रकोप बढ़ सकता है क्या?

कोरोनावायरस क्या है?

कोरोनावायरस (सीओवी) वायरस का एक विशाल समूह है जो सामान्य सर्दी- खांसी से लेकर गंभीर बीमारी तक का कारण बनता है, उदाहरण के लिए, मध्य पूर्व श्वसन सिंड्रोम (Middle East Respiratory Syndrome or MERS-CoV) और गंभीर तीव्र श्वसन सिंड्रोम (severe acute respiratory syndrome or SARS-CoV)। नोवल कोरोनावायरस (nCoV) एक नयी बीमारी है जो पहले मनुष्यों में नहीं पाया गया है। एक विस्तृत अध्ययन में पाया गया कि SARS-CoV केवट बिल्लियों से इंसानों में और MERS-CoV ड्रोमेडरी ऊंटों से इंसानों में फैला |

कोरोनवायरस ज़ूनोटिक हैं, जिसका अर्थ है कि वे जानवरों और लोगों के बीच संचारित होते हैं। बहुत से कोरोनावायरस जानवर में पाए जाते हैं, जो अभी तक इंसानों में नहीं फैला है| कोरोना वायरस पहली बार 1930 के दशक में घरेलू मुर्गी पालन में पाया गया था।

कोरोनावायरस (सीओवी) संक्रमण के मूल संकेत श्वसन संबंधी दुष्प्रभाव, बुखार, खाँसी, सांस की तकलीफ और आराम करने में परेशानी इत्यादि हो सकते हैं। उत्तरोत्तर गंभीर मामलों में, निमोनिया, तीव्र श्वसन विकार, गुर्दे की विफलता और यहां तक ​​की मृत्यु भी हो सकती है।

संक्रमण को रोकने के लिए नियमित रूप से हाथ धोना, खांसते और छींकते समय मुंह और नाक को कवर करना, मांस और अंडे को पूरी तरह से पकाकर खाना है। खांसी और छींक जैसे श्वसन संक्रमण के संकेत देने वाले किसी भी व्यक्ति के साथ निकट संपर्क से दूरी बनाए रखें।

WHO ने विश्व भर में स्वास्थ्य संकट के रूप में कोरोनावायरस-19 रोग की घोषणा की है। कोविड -१९ (COVID-19) नाम WHO (वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन – विश्व स्वस्थ्य संगठन) के द्वारा 11 फरवरी 2020 को दिया गया। COVID – 19 का पूरा नाम कोरोना वायरस डिजीज 2019 है। डब्ल्यूएचओ द्वारा आधिकारिक तौर पर रोगों को अंतर्राष्ट्रीय वर्गीकरण (आईसीडी) में नामित किया जाता है।

यह कैसे फैल गया?

सूत्रों के अनुसार, कोरोनोवायरस ने वुहान में एक ” वेट बाजार” से फैलाना शुरू किया, जिसमें मछली और पक्षियों सहित मृत और जीवित दोनों प्रकार के जानवर बेचे जाते थे।

ऐसे बाजार सफाई के लिहाज से काफी मुश्किल होते हैं और जानवरो से इंसानो में संक्रमण का खतरा बहुत ही ज्यादा होता है|

वैसे पक्की जानकारी तो नहीं है की कैसे ये वायरस फैला, पर पहली नजर में यह चमगादड़ो से फैला हुआ प्रतीत होता है| वुहान के बाजार में चमगादड़ नहीं बेचे जाते थे, लेकिन वहां जीवित मुर्गियों या विभिन्न जानवरों को बेचा जाता था, जिनमे ये वायरस चमगादड़ो से फैला हो सकता है|

इबोला, एचआईवी और रेबीज सहित विभिन्न संक्रमणों की एक बड़ी सूचि के लिए चमगादड़ जिम्मेदार हैं।

अब तक यह वायरस 88 देशों में फैल चुका है और इसके कारण 3,800 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।

भारत में कोरोनावायरस की वर्तमान स्थिति?

सूत्रों के अनुसार भारत में 19 अप्रैल 2020 तक कोरोना वायरस के 16 हजार से ज्यादा केसेस हैं। जिनमे 2300 से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं और 500 से ज्यादा लोगो की मृत्यु हो चुकी है इस वायरस के कारण।

बीमारी की गंभीरता को देखते हुए पुरे भारतवर्ष में 3 मई तक का लॉक डाउन घोषित किया गया है।

इस बीमारी से बचाव के लिए, सरकार ने कोरोनावायरस से बुरी तरह प्रभावित देशों चीन, ईरान, जापान और दक्षिण कोरिया के सभी पर्यटक वीजा निलंबित कर दिए हैं।

भारत ने बचाव के तौर पर लगभग 26 सक्रिय फार्मास्युटिकल दवाइयों, विटामिनो, और एंटीबायोटिक्स, जैसे कि पैरासिटामोल, टिनिडाज़ोल, मेट्रोनिडॉक्सोल, विटामिन बी 1, बी 6, बी 12, हार्मोन प्रोजेस्टेरोन का तत्काल प्रभाव से निर्यात रोक दिया है।

भारत सरकार ने दिल्ली, मुंबई, कर्नाटक, मणिपुर और मिजोरम में स्क्रीनिंग वार्ड भी शुरू किए हैं।

दिल्ली-एनसीआर में, राम मनोहर लोहिया (आरएमएल अस्पताल), एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान), सफदरजंग अस्पताल, और मानेसर में एक शिविर संदिग्धों की निगरानी कर रहे हैं।

महाराष्ट्र में, दो अस्पताल, कस्तूरबा अस्पताल और नायडू अस्पताल (पुणे) संदिग्धों की देखरेख के लिए समर्पित किए गए हैं।

मणिपुर में पाँच केंद्र हैं, और मिज़ोरम में एक केंद्र (ज़ोखावतार) कोरोनवायरस के संदिग्ध लोगों की निगरानी के लिए चुने गए है।

InfoJankari

1 Comment

Leave a Reply to वेट बाजार (wet market) क्या है? – InfoJankari Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *