Month: March 2020

वेद, उपनिषद, पुराण, श्रुति और स्मृति क्या है?

श्रुति:  श्रुति का अर्थ है ऐसी चीज जो परंपराओं के द्वारा आगे बढ़ी हो और जिसका कोई उद्गम स्थान पता ना हो  उदाहरण के तौर पर वेद और उपनिषद। स्मृति: स्मृति (मेमोरी) का अर्थ है किसी व्यक्ति विशेष के द्वारा अपनी यादाश्त के बल पर लिखित। पीढ़ियों से सुने हुये ज्ञान और अनुभव को याद […]Read More

होली का वास्तविक स्वरुप

इस पर्व का प्राचीनतम नाम वासन्ती नव सस्येष्टि है अर्थात् बसन्त ऋतु के नये अनाजों से किया हुआ यज्ञ, परन्तु होली होलक का अपभ्रंश है। यथा– तृणाग्निं भ्रष्टार्थ पक्वशमी धान्य होलक: (शब्द कल्पद्रुम कोष) अर्धपक्वशमी धान्यैस्तृण भ्रष्टैश्च होलक: होलकोऽल्पानिलो मेद: कफ दोष श्रमापह।(भाव प्रकाश) अर्थात्―तिनके की अग्नि में भुने हुए (अधपके) शमो-धान्य (फली वाले अन्न) […]Read More

कोरोनावायरस: क्या है, कैसे शुरू हुआ और इसका प्रकोप बढ़

कोरोनावायरस क्या है? कोरोनावायरस (सीओवी) वायरस का एक विशाल समूह है जो सामान्य सर्दी- खांसी से लेकर गंभीर बीमारी तक का कारण बनता है, उदाहरण के लिए, मध्य पूर्व श्वसन सिंड्रोम (Middle East Respiratory Syndrome or MERS-CoV) और गंभीर तीव्र श्वसन सिंड्रोम (severe acute respiratory syndrome or SARS-CoV)। नोवल कोरोनावायरस (nCoV) एक नयी बीमारी है […]Read More

हाइफा का युद्ध: भारत का अहसान आज भी इजरायल मानता

आज बेशक हमारे अपने ही देश में राजनैतिक षड्यंत्रों को चलते हमारे अद्वितीय इतिहास को झुठलाने की कोशिशें की जा रही हों, हमें हाशिये पे धकेलने के प्रयत्न किए जा रहे हों, लेकिन हमारा डी.एन.ए. हमेशा वीरता से लड़ने, जीतने और सबकी रक्षा करने का रहा है और इसे विदेशी आज भी स्वीकार करते हैं। […]Read More

अयोध्या की कहानी

जब बाबर दिल्ली की गद्दी पर आसीन हुआ उस समय जन्मभूमि सिद्ध महात्मा श्यामनन्द जी महाराज के अधिकार क्षेत्र में थी। महात्मा श्यामनन्द की ख्याति सुनकर ख्वाजा कजल अब्बास मूसा आशिकान अयोध्या आये । महात्मा जी के शिष्य बनकर ख्वाजा कजल अब्बास मूसा ने योग और सिद्धियाँ प्राप्तकर ली और उनका नाम भी महात्मा श्यामनन्द […]Read More